Monday, 7 January 2019

चलन से बाहर होने लगे 2000 रुपये के नोट, एटीएम से भी होने लगे गायब…

Image result for 2000 नोट की छापी

नई दिल्‍ली । केंद्र सरकार ने दो हजार के नोट को बंद करने के मामले में अपनी सफाई दी है। दरअसल मीडिया में 2 के नोट की छपाई में कमी की खबरें आने के बाद आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने कहा है कि दो हजार रुपये के नोट की छपाई में कमी करने का सरकार का कोई इरादा नहीं है। उन्‍होंने कहा कि सिस्‍टम जार रुपये के नोट पर्याप्‍त मात्रा में हैं। साथ ही उन्‍होंने कहा कि देश के बाजार में सर्कुलेशन में जितने नोट हैं उनमें 35 फीसदी हिस्‍सेदारी 2 हजार रुपये के नोट की है।

गर्ग ने कहा कि जरूरत के मुताबिक ही 2 हजार रुपये के नोटों की छपाई की जाती है। गौरतलब है कि दो दिन से यह खबर मीडिया में चल रही थी कि 216 में नोटबंदी के बाद जारी किए गए 2 हजार रुपये के नोट पर खतरा मंडरा रहा है। वहीं इस मामले पर वित्त मंत्रालय के एक शीर्ष अधिकारी के मुताबिक दो हजार रुपये के नोट की छपाई कम कर दी गई है और यह अपने कम से कम स्तर पर पहुंच गई है। इससे यह आशंका जताई जा रही है कि दो हजार रुपये का यह नया नोट बैंकिंग सिस्टम से कभी भी गायब हो सकता है। हालांकि अभी इसे बंद करने को लेकर कोई आधिकारिक फैसला नहीं हुआ है। नाम न छापने की शर्त पर एक बैंक अधिकारी ने भी कहा है कि आरबीआई ने बैंकों से दो हजार रुपये का नोट ग्राहकों को नहीं देने को कहा है।

चलन से बाहर होने लगे 2 रुपये के नोट

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के आंकड़ों के अनुसार 2 रुपये नोट चलनसे भी बाहर होने लगे हैं। आरबीआई के आंकड़ों के अनुसार मार्च 218 तक देश में कुल 18,3 लाख करोड़ रुपये की करेंसी चलन में थी। इसमें 2 रुपये के नोट का भाग 37.3 फीसदी था। इससे ठीक एक साल पहले यानी मार्च 217 के अंत में कुल करेंसी में 2 रुपये के नोट की हिस्सेदारी 5.2 फीसदी थी। इसी प्रकार 217 के अंत तक 2 रुपये के कुल 328.5 करोड़ नोट चलन में थे जो 218 के अंत में घटकर 336.3 करोड़ रुपये रह गए थे।

पहले से ही थी बंद करने की योजना

वित्त मंत्रालय के शीर्ष अधिकारी के अनुसार 2 रुपये के नोट को जारी करने का मुख्य मकसद नोटबंदी के बाद पैदा होने वाली किल्लत को दूर करना था। इस नोट की लॉन्चिंग के समय ही तय कर लिया गया था कि इसकी छपाई को धीरे-धीरे कम कर दिया जाएगा। यही वजह है कि अब इसकी छपाई अपने कम से कम स्तर पर पहुंच गई है। देश की कुल नकदी में भी 2 रुपये के नोटों की हिस्सेदारी भी बीते एक साल में कम हो गई है।

एटीएम से भी गायब होने लगे 2 रुपये के नोट

दरअसल में दो हजार रुपये के नोटों की कमी का असर एटीएम पर दिख रहा है। देश के करीब 5 फीसदी एटीएम से 2 रुपये का नोट नहीं मिल रहा है। इसकी जगह पर 5 और 2 रुपये के नए नोट को चलन में लाया जा रहा है। नेशनल ऑर्गेनाइजेशन ऑफ बैंक वर्कर्स के वाइस प्रेसीडेंट अश्विनी राणा भी कह चुके हैं कि 2 रुपये के नोटों की किल्लत के बाद बैंक 5 और 2 रुपये के नोटों को बढ़ावा दे रहे हैं।

करंसी की छपाई जरूरत के हिसाब से

केंद्रीय आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने कहा कि किसी भी मूल्य की करंसी की छपाई अनुमानित जरूरत के मुताबिक होती है। हमारी व्यवस्था में दो हजार रुपये के नोट पर्याप्‍त मात्रा में उपलब्‍ध हैं। गर्ग ने खुलासा किया कि बाजार में प्रचलित नोटों के कुल मूल्य का करीब 35 फीसदी 2 रुपये के नोट हैं। ऐसे में फिलहाल दो हजार रुपये के और नोटों की छपाई का कोई फैसला नहीं लिया गया है।

आप इस बार के चुनाव में किसे वोट देंगे - अभी वोट करें

इस पोस्ट को अधिक से अधिक लोगो तक शेयर करे, और इस तरह के पोस्ट को पढने के लिए आप हमारी वेबसाइट विजिट करते रहे.